व्रजासन के 12 फायदे और विधि


About Vajrasana Benefits in Hindi. योग की दुनिया में हर समस्या से राहत पाने के लिए कोई ना कोई आसन होता है। यह आसन ना केवल हमारी सेहत पर सकारात्मक प्रभाव डालते हैं, बल्कि यह हमें मानसिक रूप से भी लाभ देते हैं। आज हम आपको एक ऐसे ही आसन यानी वज्रासन के फायदे और वज्रासन करने की विधि के बारे में बताएंगे। क्या आपको अक्सर पाचन से संबंधित समस्याएं होती हैं। अगर ऐसा है तो आपके लिए वज्रासन करना बेहद फायदेमंद हो सकता है। इसके अलावा यह आसन करना भी बहुत सरल हैं। पाचन क्रिया से लेकर इम्यूनिटी बढ़ाने तक में कई तरह से यह आसन आपको लाभ दे सकता है। ऐसे में अगर आप वज्रासन से जुड़ी हुई कोई भी बात जानना चाहते हैं तो आप हमारे इस लेख पर अंत तक बने रहें। 

क्या है वज्रासन – What is Vajrasana in Hindi क्या है वज्रासन - What is Vajrasana in Hindi 

वज्रासन एक ऐसा योगासन है जिसे बहुत सी समस्याओं का अंत करने के लिए भी किया जाता है। इस आसन का पहला शब्द है वज्र। यह शब्द संस्कृत भाषा से लिया गया है, जिसका अर्थ होता है आसमान से गिरने वाली बिजली। अंग्रेजी भाषा में वज्रासन को कुछ लोग डायमंड पोज भी कहा जाता है। वज्रासन की मुद्रा में बैठ कर अनुलोम विलोम और कपालभाति जैसे योगासन भी किए जा सकते हैं। आगे हम वज्रासन के फायदे और वज्रासन करने की विधि के बारे में जानेंगे। आइए जानते हैं इससे जुड़ी अन्य जानकारी। 

वज्रासन के फायदे – Vajrasana Benefits in Hindi वज्रासन के फायदे - Vajrasana Benefits in Hindi 

दोस्तों वज्रासन के एक दो नहीं, बल्कि ढेरों फायदे हैं। योग के लिए गए बहुत से ग्रंथों और किताबों के भीतर वज्रासन का जिक्र किया गया है। यह पाचन क्रिया को फायदा तो पहुंचाता ही है। साथ ही इस आसन के जरिए बहुत आसानी से एक व्यक्ति अपने शरीर के कई अंगों को स्ट्रेच कर सकता है। आइए जानते हैं वज्रासन करने के फायदे। 

वज्रासन हाथ पैरों के दर्द में फायदेमंद 

अगर आपके हाथ पैरों में अक्सर दर्द रहता है तो आप एक दफा वज्रासन को आजमा सकते हैं। आपको बता दें कि वज्रासन को लेकर हाल ही में कई अध्ययन किए गए हैं। यह सभी अध्ययन इसी ओर इशारा करते हैं कि वज्रासन के जरिए ना केवल हाथ पैरों के मसल्स का दर्द ठीक हो सकता है। बल्कि यह पीठ के मसल्स में हो रहे दर्द से भी राहत दिला सकती है। इसके अलावा अगर किसी व्यक्ति को साइटिका के दर्द और गठिया से संबंधित घुटनों के दर्द है तो वह भी वज्रासन को कर सकते हैं। 

मांसपेशियों की मजबूती के लिए 

अगर आप अपनी मांसपेशियों को मजबूत करना चाहते हैं तो यकीनन वज्रासन आपके लिए फायदेमंद होगा। आपको बता दें कि वज्रासन करने से आपके कूल्हे, जोड़ों, रीढ़ की हड्डी, काफ और पेट की मांसपेशियों को मजबूती प्राप्त होती है। लेकिन शर्त यह है कि वज्रासन आपको नियमित रूप से करना होगा। इसके अलावा वज्रासन करने के लाभ आपको आपकी जांघों, घुटनों और पैरों पर भी देखने को मिलते हैं। 

पाचन क्रिया के लिए वज्रासन के फायदे 

अगर आपको पाचन से संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ता है, तो आपके लिए नियमित रूप से वज्रासन करना बहुत लाभदायक हो सकता है। इस बात का जिक्र एनसीबीआई की साइट पर प्रकाशित रिसर्च में भी किया गया है। आपको बता दें कि इस आसन के जरिए आपके पाचन अंगों में खून का प्रवाह बेहतर हो जाता है। जिसकी वजह से पेट में भारीपन, एसिडिटी, कब्ज, गैस और बवासीर जैसी समस्याओं से राहत मिलती है। 

मधुमेह के लिए फायदेमंद 

मधुमेह जैसी भयंकर बीमारी से राहत पाने के लिए भी आप वज्रासन को आजमा सकते हैं। हाल ही में हुई एक रिसर्च के मुताबिक वज्रासन करने से शरीर में इंसुलिन और ग्लूकोज के स्तर को बेहतर करने में सहायता मिलती है। जिसकी वजह से मधुमेह नियंत्रित हो सकता है। लेकिन ध्यान रहे कि मधुमेह के दौरान अपनी डाइट और दवा का पूरा ध्यान रखना जरूरी है। यह आसन आपकी इस समस्या को कुछ हद तक नियंत्रित कर सकता है, पूरी तरह ठीक नहीं करा सकता। 

रक्त संचार में फायदेमंद

रक्त संचार एकमात्र ऐसा तरीका है जिसके जरिए शरीर अपने सभी काम कर पाता है। ऐसे में अगर रक्त संचार बाधित हो जाता है तो इससे कई समस्याएं खड़ी हो सकती हैं। लेकिन महज वज्रासन करने से रक्त संचार को बेहतर किया जा सकता है। आपको बता दें कि वज्रासन के दौरान घुटनों पर बैठना होता है। जिसकी वजह से पेल्विक एरिया तक भी खून का रिसाव आसानी से होता है और हृदय तक खून पहुंचाने की प्रक्रिया भी सुगम हो जाती है। इस लिहाज से कहा जा सकता है कि वज्रासन के फायदे रक्त संचार में देखने को मिलते हैं। 

महिलाओं के लिए वज्रासन 

अगर महिलाएं को मासिक धर्म के दौरान ऐंठन की समस्या अधिक रहती है तो उनके लिए यह आसन बहुद लाभदायक हो सकता है। इसके अलावा प्रसव के दौरान होने वाले दर्द से भी वज्रासन राहत दिला सकता है। ज्ञात हो कि प्रसव और मासिक धर्म के दौरान महिलाओं को एक भयंकर पीड़ा से जूझना पड़ता है। इस दर्द से निजात दिलाने में वज्रासन आपकी सहायता कर सकता है। 

वज्रासन करने की विधि – How To Do Vajrasana in Hindi 
वज्रासन करने की विधि - How To Do Vajrasana in Hindi 

  1. यह आसन बेहद ही सरल आसन है। इसलिए इसे लगभग हर उम्र के लोग कर सकते हैं। लेकिन इससे जुड़ी कुछ सावधानियां हैं। जिनका ध्यान आपको रखना होगा। 
  2. इसके लिए सबसे पहले सीधे खड़े हो जाएं। 
  3. इसके बाद अपने दोनों घुटनों को मोड़ें और अपने पंजों को पीछे की ओर ले जाते हुए घुटनों के बल ही बैठ जाएं। 
  4. इस दौरान अपनी कमर और गर्दन दोनों को सीधा रखें।  अपने दोनों हाथों को अपनी जांघों पर ही रखें। 
  5. अब अपनी आंखें बंद करें, एवं सांस ले और छोड़े
  6. इस आसन में लगभग 5 से 10 मिनट तक रहें और फिर आराम की मुद्रा में आ जाएं। 

वज्रासन से जुड़ी सावधानियां – Precautions For Vajrasana in Hindi वज्रासन से जुड़ी सावधानियां - Precautions For Vajrasana in Hindi 

दोस्तों योग एक व्यायाम भले ही हो लेकिन इसके अंदर मौजूद आसनों को करने के लिए कुछ चीजों का ध्यान रखने की जरूरत है। क्योंकि अगर आप वज्रासन करने में किसी तरह की कोई चूक कर देते हैं तो इससे आपका नुकसान होना तय है। इसलिए नीचे हम इससे जुड़ी कुछ सावधानियों के बारे में बता रहे हैं। आप वज्रासन करते समय इनका ध्यान जरूर रखें। 

वज्रासन करने में सावधानियां

  1. अगर आपको घुटनों या कमर का दर्द है तो आप इस आसन को ना करें। 
  2. जब तक आपके शरीर में पूरी तरह लचीलापन ना आ जाए तब तक इस आसन को कम ही समय के लिए करें। 
  3. अगर आपके घुटने या टखने की सर्जरी हुई है या किसी चीज से दिक्कत हो रही हो तो इस आसन को ना करें। 
  4. लो ब्लड प्रेशर की समस्या से पीड़ित लोग भी इस आसन को ना करें। 
  5. गर्भावस्था के दौरान केवल डॉक्टर की सलाह पर ही  वज्रासन करना चाहिए। 
  6. रीढ़ की हड्डी का ऑपरेशन या दर्द होने पर इस आसन को करने से बचें। 
  7. इस आसन को खाली पेट ही करना चाहिए। 

निष्कर्ष – Conclusion

दोस्तों हमने आपको अपने इस लेख में Vajrasana Benefits in Hindi से जुड़ी सारी जानकारी दे दी है। अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो इसे दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। ध्यान रहे कि वज्रासन किसी बीमारी का उपचार नहीं है। बस यह आपकी शारीरिक और अंदरूनी समस्या से कुछ हद तक आराम दिला सकता है।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

  1. क्या वज्रासन करने से मधुमेह में लाभ हो सकता है?

    हां, वज्रासन के लाभ आपको मधुमेह में दिखाई दे सकते हैं।

  2. क्या वज्रासन के फायदे पाचन क्रिया में होते हैं?

    हां वज्रासन करने के लाभ पाचन क्रिया में भी देखने को मिल जाते हैं।

  3. क्या घुटनों और कमर की चोट के दौरान वज्रासन किया जा सकता है?

    नहीं, अगर आपको इन दोनों में से कोई भी समस्या है तो आपको यह आसन नहीं करना चाहिए।

  4. वज्रासन में कितनी देर तक बैठना ठीक होगा?

    आप इस आसन में 5 से 10 मिनट तक रह सकते हैं।

यह भी पढ़े
काले किशमिश के फायदे
कॉर्न फ्लोर के फायदे
पार्सले के फायदे
जौ के फायदे


About The Post : studyholic is an aggregator of content and does not claim any rights on the content or Images. The copyrights of all the content belongs to their respective original owners. All content has been linked to respective platforms.

View source version on : https://readonmirror.com/vajrasana-benefits-in-hindi/

Leave a Comment